Un ne pm narendra modi ko ChampionsOfTheEarth ke khitaab se sammanit kiya

संयुक्‍त राष्‍ट्र ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘चैंपियंस ऑफ द अर्थ’ के खिताब से किया सम्मानितपर्यावरण में बदलाव लाने के लिए लोगों को किया प्रोत्साहित

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आज चैंपियंस ऑफ द अर्थ के पुरस्कार से नवाजा गया है। राजधानी दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस पुरस्कार से नवाजा। चैंपियंस ऑफ द अर्थ के पुरस्कार से नवाजे जाने के बाद पीएम मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि चैंपियंस ऑफ द अर्थ का सम्मान पर्यावरण की सुरक्षा के लिए भारत की जनता की प्रतिबद्धता का परिणाम है।


पीएम मोदी के संबोधन की कुछ खास बातें…

ये भारत की उस महान नारी का सम्मान है, जिसके लिए सदियों से रेस्क्यू और रिसाइकल रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा रहा है।

जो पौधे में भी परमात्मा का रूप देखती है।जो तुलसी की पत्तियां भी तोड़ती है, तो गिनकर। जो चींटी को भी अन्न देना पुण्य मानती है।


ये भारत के आदिवासी भाई-बहनों का सम्मान है, जो अपने जीवन से ज्यादा जंगलों से प्यार करते हैं। पीएम मोदी ने कहा कि ये सम्मान देश के हर उस मछुआरे को समर्पित है, जो समंदर से सिर्फ उतना ही लेते हैं जितना अर्थ उपार्जन के लिए आवश्यक होता है।


आज भारत दुनिया के उन देशों में है जहां सबसे तेज़ गति से शहरीकरण हो रहा है। ऐसे में अपने शहरी जीवन को Smart और Sustainable बनाने पर भी बल दिया जा रहा है। Infrastructure को Sustainable Environment and Inclusive Growth के लक्ष्य के साथ बनाया जा रहा हैं।


पर्यावरण क्षेत्र में दिए जाने वाला सबसे बड़ा सम्मान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों को संयुक्त रूप से संयुक्त राष्ट्र का पर्यावरण क्षेत्र में दिये जाने वाला सबसे बड़ा सम्मान दिया गया है। अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन और पर्यावरणीय कार्रवाई की दिशा में नए क्षेत्रों को प्रोत्साहन की दोनों नेताओं की पहल पर यह सम्मान देने की घोषणा की गई थी।

पर्यावरण में बदलाव लाने के लिए लोगों को किया प्रोत्साहित

पीएम मोदी और मैक्रों दुनिया के उन छह प्रबुद्ध लोगों में हैं जिन्हें पर्यावरण में बदलाव लाने के लिए ‘चैंपियंस आफ द अर्थ अवॉर्ड’ देने की घोषणा की गई थी। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम ने कहा, ‘‘इस साल सम्मान पाने वालों ने साहसी, नवोन्मेषी तथा जमकर हमारे समय के सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों से निपटने के लिए काम किया।’’

Prabhat Sharma
By Prabhat Sharma , October 3, 2018
Copyright 2018 | All Rights Reserved.