pm narendra modi ne end tb summit ka udghatan kiya

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने End TB Summit का उद्घाटन किया, भारत 2025 तक TB मुक्त होगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली के विज्ञान भवन में टीबी मुक्त शिखर सम्मेलन (End TB Summit) का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने भारत से 2025 तक टीबी को खत्म करने का लक्ष्य रखा। इस शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुझे खुशी है कि भारत की हेल्थ और फैमिली वेलफेयर मंत्रालय, डब्ल्यू एच ओ साउथ इस्ट एशिया क्षेत्र और स्टॉप टीबी पार्टनरशिप ने मिलकर एशिया, अफ्रीका और दुनिया के अनेक देशों के प्रतिनिधियों को आज एक मंच पर लाया है। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि ‘Delhi End TB Summit’ टीबी को धरती से हमेशा के लिए खत्म करने की दिशा में एक लैंडमार्क इवेंट के तौर पर जाना जाएगा।


पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत में तो वैसे भी किसी भी संक्रमित रोग से टीबी का प्रभाव सबसे ज्यादा है और इसका सबसे ज्यादा शिकार ही गरीब होते हैं। इसलिए टीबी खत्म करने के लिए उठाया गया हर कदम, सीधे-सीधे गरीबों के जीवन से जुड़ा हुआ है।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दुनिया भर में टीबी को खत्म करने के लिए वर्ष 2030 तक का समय तय किया गया है। लेकिन आज मैं ये घोषणा कर रहा हूं कि भारत ने वर्ष 2030 से 5 साल और पहले, यानि 2025 तक टीबी को खत्म करने का लक्ष्य अपने लिए तय किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि टीबी के मरीजों की सही पहचान हो, एक्टिव केसों के बारे में समय पर पता चले, जो दवाइयां दी जा रही हैं, वो प्रभावी हैं भी या नहीं, ड्रग रेजिस्टेंस तो नहीं है, इन विषयों को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा व्यापक स्तर पर कार्य किया जा रहा है।


पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि टीबी को भारत से मिटाने के लिए राज्य सरकारों की भी बड़ी भूमिका है। कोऑपरेटिव फेडरलिज्म की भावना को मजबूत करते हुए, इस मिशन में राज्य सरकारों को अपने साथ लेकर चलने के लिए मैंने खुद देश के सभी मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखकर इस अभियान से जुड़ने का आग्रह किया है।

उन्होंने कहा कि इस आयोजन में राज्यों की तरफ से आए मंत्रिगण और संबंधित पदाधिकारियों का इतनी बड़ी संख्या में उपस्थित होना, इस बात का संकेत है कि कैसे हम टीम इंडिया की तरह अपने देश को TB से मुक्ति दिलाने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि टीबी का मरीज अपनी इच्छाशक्ति से जिस तरह इस बीमारी पर विजय प्राप्त करता है, वो दूसरों के लिए भी प्रेरणा का काम करता है। मेरा दृढ़ विश्वास है कि मरीजों की इच्छाशक्ति और अपने पैशनेट टीबी वर्कर्स के सहयोग से भारत के साथ ही दुनिया का हर देश अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल होगा।

Dipanshu Ranjan
By Dipanshu Ranjan , March 13, 2018
Copyright 2018 | All Rights Reserved.